साम्राज्यवाद के रूप में संयुक्त राज्य अमेरिका का उदय: स्पैनिश-अमेरिकी युद्ध

स्पैनिश-अमेरिकी युद्ध के दौरान एक शाही शक्ति के रूप में संयुक्त राज्य अमेरिका के उदय ने देश के इतिहास में एक महत्वपूर्ण मोड़ दिया। 1898 में हुए इस संघर्ष ने संयुक्त राज्य अमेरिका को विश्व मंच पर धकेल दिया और अंतर्राष्ट्रीय मामलों में इसकी भूमिका को नया रूप दिया। हम उन कारकों जानेंगे जो स्पेनिश युद्ध के दौरान संयुक्त राज्य अमेरिका एक शाही शक्ति के रूप में उभरा।

Thank you for reading this post, don't forget to subscribe!

स्पेनिश-अमेरिकी युद्ध के कारण

आर्थिक हित और विस्तारवादी महत्वाकांक्षाएं

स्पैनिश युद्ध के दौरान संयुक्त राज्य अमेरिका के साम्राज्यवादी शक्ति के रूप में उभरने में योगदान देने वाले प्रमुख कारकों में से एक इसके आर्थिक हित और विस्तारवादी महत्वाकांक्षाएं थीं। संयुक्त राज्य अमेरिका तेजी से औद्योगीकरण का अनुभव कर रहा था और अपने माल और निवेश के लिए नए बाजारों की तलाश कर रहा था। क्यूबा, ​​एक स्पेनिश उपनिवेश, ने संयुक्त राज्य अमेरिका और इसके समृद्ध संसाधनों, विशेष रूप से चीनी उत्पादन में निकटता के कारण आर्थिक विस्तार के लिए एक मूल्यवान अवसर प्रस्तुत किया।

मानवतावादी सरोकार और पीत पत्रकारिता

स्पैनिश-अमेरिकी युद्ध के प्रकोप में मानवीय चिंताओं ने भी भूमिका निभाई। स्पेनिश शासन के तहत स्पेनिश अत्याचारों और क्यूबा की आबादी की पीड़ा की रिपोर्ट ने अमेरिकी जनता का ध्यान आकर्षित किया। पीत पत्रकारिता, रिपोर्टिंग की एक शैली जो तथ्यों पर सनसनीखेजता को प्राथमिकता देती है, ने इन कहानियों को और बढ़ाया और सार्वजनिक आक्रोश को भड़काया। हवाना हार्बर में यूएसएस मेन का डूबना, हालांकि बाद में आकस्मिक होना निर्धारित किया गया था, अमेरिकी हस्तक्षेप के लिए एक उत्प्रेरक के रूप में कार्य किया।

भू राजनीतिक विचार

इसके अतिरिक्त, भू-राजनीतिक विचारों ने स्पेनिश युद्ध के दौरान एक शाही शक्ति के रूप में संयुक्त राज्य अमेरिका के उद्भव को प्रभावित किया। संयुक्त राज्य अमेरिका ने अपने हितों की रक्षा करने और अपने व्यापार मार्गों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए कैरेबियन और प्रशांत क्षेत्र में एक मजबूत उपस्थिति स्थापित करने की मांग की। प्वेर्टो रिको और फिलीपींस जैसे रणनीतिक स्थानों पर नियंत्रण, संयुक्त राज्य अमेरिका को इन क्षेत्रों में पैर जमाने और वैश्विक शक्ति के रूप में अपनी स्थिति मजबूत करने में मदद करेगा।

स्पेनिश-अमेरिकी युद्ध के पाठ्यक्रम

मनीला खाड़ी और सैंटियागो -दे क्यूबा की लड़ाई

स्पैनिश-अमेरिकी युद्ध अप्रैल 1898 में शुरू हुआ जब संयुक्त राज्य अमेरिका ने क्यूबा की नौसैनिक नाकाबंदी शुरू की। युद्ध की पहली बड़ी लड़ाई 1 मई को हुई, जब कमोडोर जॉर्ज डेवी के बेड़े ने फिलीपींस में मनीला खाड़ी की लड़ाई में स्पेनिश बेड़े को हरा दिया। इस जीत ने संयुक्त राज्य अमेरिका को फिलीपींस का नियंत्रण जब्त करने और प्रशांत क्षेत्र में एक महत्वपूर्ण उपस्थिति स्थापित करने की अनुमति दी।

इस बीच, कैरेबियन में, सैंटियागो-दे क्यूबा की लड़ाई जुलाई 1898 में शुरू हुई। एडमिरल विलियम टी. सैम्पसन के नेतृत्व में संयुक्त राज्य अमेरिका की नौसेना ने स्पेनिश बेड़े को निर्णायक रूप से हरा दिया, जिससे क्षेत्र में स्पेन की नौसैनिक उपस्थिति प्रभावी रूप से समाप्त हो गई। इस जीत ने संयुक्त राज्य अमेरिका के लिए प्यूर्टो रिको, गुआम और फिलीपींस पर कब्जा करने का रास्ता साफ कर दिया, जिससे उसकी शाही महत्वाकांक्षाएं मजबूत हो गईं।

पेरिस की संधि 1898

स्पेनिश-अमेरिकी युद्ध दिसंबर 1898 में पेरिस की संधि पर हस्ताक्षर के साथ समाप्त हो गया। संधि की शर्तों के तहत, स्पेन ने क्यूबा की स्वतंत्रता को मान्यता दी और प्यूर्टो रिको, गुआम और फिलीपींस को संयुक्त राज्य अमेरिका को सौंप दिया। इसने संयुक्त राज्य अमेरिका के एक शाही शक्ति के रूप में आधिकारिक उद्भव को चिह्नित किया, विदेशों में प्रदेशों का अधिग्रहण किया और उत्तरी अमेरिकी महाद्वीप से परे अपने प्रभाव को पेश किया।

स्पेनिश-अमेरिकी युद्ध का प्रभाव

अमेरिकी क्षेत्रों का विस्तार

स्पैनिश-अमेरिकी युद्ध का संयुक्त राज्य अमेरिका के क्षेत्रीय विस्तार पर गहरा प्रभाव पड़ा। प्यूर्टो रिको, गुआम और फिलीपींस के अधिग्रहण के साथ, संयुक्त राज्य अमेरिका एक औपनिवेशिक शक्ति बन गया, जो प्रशांत और कैरिबियन के क्षेत्रों को नियंत्रित करता था। इस विस्तार ने संयुक्त राज्य अमेरिका के पारंपरिक अलगाववादी रुख से प्रस्थान को चिह्नित किया और वैश्विक स्तर पर अपने प्रभाव का दावा करने के अपने इरादे को संकेत दिया।

अमेरिकी साम्राज्यवाद का उदय

स्पैनिश युद्ध के दौरान एक शाही शक्ति के रूप में संयुक्त राज्य अमेरिका का उदय अमेरिकी साम्राज्यवाद की बढ़ती भावना को दर्शाता है। युद्ध और उसके परिणाम ने अमेरिकी शक्ति की प्रकृति और इसके साथ आने वाली जिम्मेदारियों के बारे में बहस को हवा दी। कुछ लोगों ने तर्क दिया कि संयुक्त राज्य अमेरिका का कर्तव्य “सभ्यता” और नए अधिग्रहीत क्षेत्रों का उत्थान करना था, जबकि अन्य ने शोषण की संभावना और लोकतांत्रिक मूल्यों के क्षरण के बारे में चिंता व्यक्त की।

विदेश नीति में बदलाव

स्पैनिश-अमेरिकी युद्ध ने अमेरिकी विदेश नीति में एक महत्वपूर्ण बदलाव को प्रेरित किया। संयुक्त राज्य अमेरिका अलगाववाद की नीति से बढ़ी हुई अंतर्राष्ट्रीय भागीदारी में परिवर्तित हुआ। विदेशी क्षेत्रों के अधिग्रहण के लिए कूटनीतिक और सैन्य रणनीतियों के पुनर्मूल्यांकन की आवश्यकता थी, क्योंकि संयुक्त राज्य अमेरिका को अब दूर-दराज की संपत्ति का प्रबंधन और शासन करना था। इस बदलाव ने आने वाले वर्षों में संयुक्त राज्य अमेरिका के विश्व मंच पर एक प्रमुख खिलाड़ी बनने का मार्ग प्रशस्त किया।

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्नों

Q.1. स्पेनी-अमेरिकी युद्ध के प्रमुख कारण क्या थे?

उत्तर: स्पैनिश-अमेरिकी युद्ध के मुख्य कारण आर्थिक हित और विस्तारवादी महत्वाकांक्षाएं, मानवीय चिंताएं और भू-राजनीतिक विचार थे। संयुक्त राज्य अमेरिका ने क्यूबा में आर्थिक अवसरों की तलाश की, स्पेनिश अत्याचारों की रिपोर्टों से प्रेरित था, और इसका उद्देश्य कैरेबियन और प्रशांत क्षेत्र में एक मजबूत उपस्थिति स्थापित करना था।

Q.2. युद्ध के परिणामस्वरूप संयुक्त राज्य अमेरिका ने किन क्षेत्रों का अधिग्रहण किया?

उत्तर: स्पैनिश-अमेरिकी युद्ध के परिणामस्वरूप, संयुक्त राज्य अमेरिका ने प्यूर्टो रिको, गुआम और फिलीपींस का अधिग्रहण किया। ये क्षेत्र संयुक्त राज्य अमेरिका के विदेशी साम्राज्य का हिस्सा बन गए और एक साम्राज्यवादी शक्ति के रूप में इसके उदय में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

Q.3. स्पैनिश-अमेरिकी युद्ध ने अमेरिकी विदेश नीति को कैसे प्रभावित किया?

उत्तर: स्पैनिश-अमेरिकी युद्ध ने अमेरिकी विदेश नीति को अलगाववाद से बढ़ाकर अंतरराष्ट्रीय भागीदारी में बदलाव के लिए प्रेरित किया। संयुक्त राज्य अमेरिका को अपने अधिग्रहीत क्षेत्रों पर शासन करने के लिए नई कूटनीतिक और सैन्य रणनीति विकसित करनी पड़ी, जिससे वैश्विक मामलों में अधिक सक्रिय भूमिका निभाई जा सके।

Q.4. अमेरिकी साम्राज्यवाद के लिए स्पेनिश-अमेरिकी युद्ध के निहितार्थ क्या थे?

उत्तर: स्पैनिश-अमेरिकी युद्ध ने अमेरिकी साम्राज्यवाद के उदय को चिह्नित किया, क्योंकि संयुक्त राज्य ने उपनिवेशों का अधिग्रहण किया और अपनी सीमाओं से परे अपने प्रभाव का अनुमान लगाया। इसने एक शाही शक्ति की जिम्मेदारियों और शोषण की संभावना के बारे में बहस छेड़ दी।

Q.5. क्या स्पेनिश-अमेरिकी युद्ध ने वैश्विक शक्ति के रूप में संयुक्त राज्य अमेरिका के उभरने में योगदान दिया?

उत्तर: हाँ, स्पैनिश-अमेरिकी युद्ध ने संयुक्त राज्य अमेरिका के एक वैश्विक शक्ति के रूप में उभरने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। इसने अमेरिकी क्षेत्रों का विस्तार किया, विदेश नीति में बदलाव किया और अंतर्राष्ट्रीय मामलों में बढ़ती भागीदारी के लिए मंच तैयार किया।

Q.6. स्पेनिश-अमेरिकी युद्ध ने दुनिया में संयुक्त राज्य अमेरिका की भूमिका को कैसे आकार दिया?

उत्तर: स्पैनिश-अमेरिकी युद्ध ने विश्व में संयुक्त राज्य अमेरिका की भूमिका को एक साम्राज्यवादी शक्ति के रूप में वैश्विक मंच पर लाकर नया रूप दिया। इसने अलगाववाद से प्रस्थान को चिह्नित किया और संयुक्त राज्य अमेरिका को अंतर्राष्ट्रीय भागीदारी और प्रभाव में वृद्धि के मार्ग पर स्थापित किया