अमेरिका द्वारा द्वितीय विश्व युद्ध में भाग लेने के कारण और प्रभाव [BA History Sem 4 BBMKU University]

द्वितीय विश्व युद्ध एक वैश्विक संघर्ष था जिसने कई देशों को अपनी चपेट में ले लिया, अंततः संयुक्त राज्य अमेरिका भी इस लड़ाई में शामिल हो गया। युद्ध के सुरुअती दौर में अमेरिका तटस्थता की नीति का अनुसरण किया। अमेरिका अपने घरेलु समस्याओं को दूर करने में लगा था इसके बावजूद उसे निम्नलिखित कारणों से द्वितीय युद्ध ने उतरना पड़ा।

Thank you for reading this post, don't forget to subscribe!

आर्थिक कारण

द्वितीय विश्व युद्ध में अमेरिका की भागीदारी में आर्थिक कारकों ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। प्राथमिक कारणों में से एक 7 दिसंबर, 1941 को जापानियों द्वारा पर्ल हार्बर पर हमला था। पर्ल हार्बर पर हमले ने न केवल तत्काल तबाही मचाई, बल्कि प्रशांत क्षेत्र में अमेरिकी आर्थिक हितों के लिए भी सीधा खतरा पैदा कर दिया। इस हमले ने संयुक्त राज्य अमेरिका के प्रशांत बेड़े को गंभीर रूप से क्षतिग्रस्त कर दिया और अमेरिका ने जापान के खिलाफ युद्ध की घोषणा कर दी ।

इसके अतिरिक्त, अमेरिका के यूनाइटेड किंगडम और फ्रांस जैसे मित्र देशों के साथ मजबूत व्यापारिक संबंध थे। फ्रांस पर जर्मन कब्जे और ब्रिटिश आपूर्ति लाइनों पर लगातार यू-बोट हमलों ने व्यापार को बाधित कर दिया, जिससे अमेरिकी आर्थिक स्थिरता खतरे में पड़ गई। अपने आर्थिक हितों की रक्षा और अनुकूल व्यापार संबंधों को बनाए रखने के लिए, संयुक्त राज्य अमेरिका मजबूरन इस युद्ध में सामिल होना पड़ा।

राष्ट्रीय सुरक्षा की चिंताएँ: द्वितीय विश्व युद्ध

द्वितीय विश्व युद्ध में अमेरिका के भाग लेने के निर्णय में राष्ट्रीय सुरक्षा की चिंताएँ एक महत्वपूर्ण कारन थी। एडॉल्फ हिटलर के नेतृत्व में नाजी जर्मनी ने वैश्विक शांति और सुरक्षा के लिए एक विशाल खतरा उत्पन्न किया। धुरी शक्तियों की आक्रामक नीतियों के साथ-साथ हिटलर की विस्तारवादी महत्वाकांक्षाओं ने संयुक्त राज्य अमेरिका में खतरे की घंटी बजा दी।

1940 में फ्रांस के पतन से अमेरिका की चिंताएँ और बढ़ गईं। यूरोप के नाज़ी प्रभुत्व के आगे झुकने के साथ, एक वास्तविक डर था कि जर्मनी बढ़त हासिल कर लेगा और सीधे संयुक्त राज्य अमेरिका को धमकी देगा। अपनी राष्ट्रीय सुरक्षा की रक्षा करने और अधिनायकवादी शासन के प्रसार को रोकने के लिए, अमेरिका को संघर्ष में सक्रिय भूमिका निभानी पड़ी।

वैचारिक विरोध

अमेरिका फासीवाद और अधिनायकवाद शासन का हमेशा से विरोधी रहा है। एक लोकतांत्रिक राष्ट्र के रूप में संयुक्त राज्य अमेरिका ने व्यक्तिगत स्वतंत्रता, मानवाधिकार और लोकतांत्रिक सिद्धांतों का समर्थन किया। फासीवादी शक्तियों के उदय ने इन सिद्धांतों को चुनौती दी, जिससे इन दमनकारी शासनों का सामना करना और उन्हें हराना अमेरिका के लिए एक नैतिक दायित्व बन गया।

इसके अलावा, वैश्विक मंच पर शक्ति संतुलन बनाए रखने में संयुक्त राज्य अमेरिका का निहित स्वार्थ था। धुरी शक्तियों को पूर्ण प्रभुत्व प्राप्त करने की अनुमति देने से विश्व व्यवस्था अधिनायकवाद के पक्ष में स्थानांतरित हो जाती, जिससे संयुक्त राज्य अमेरिका जिन लोकतांत्रिक सिद्धांतों के लिए खड़ा था, वे कमज़ोर हो जाते। इसलिए, अमेरिका अपनी वैचारिक मान्यताओं की रक्षा करने और एक स्वतंत्र और न्यायपूर्ण दुनिया को बढ़ावा देने के लिए युद्ध में शामिल हुआ।

द्वितीय विश्व युद्ध में अमेरिका का प्रभाव

द्वितीय विश्व युद्ध में अमेरिका का प्रभाव महत्वपूर्ण था। यहां कुछ मुख्य तरीके हैं जिनके माध्यम से अमेरिका ने युद्ध में गहरा प्रभाव डाला:

  1. औद्योगिक शक्ति: संयुक्त राज्य अमेरिका के पास अपार औद्योगिक क्षमताएँ थी, जिससे उसे भारी मात्रा में हथियार, उपकरण और अन्य आवश्यक युद्ध सामग्री का उत्पादन करने की अनुमति मिली। अमेरिकी कारखानों और उद्योगों को तुरंत युद्धकालीन उत्पादन में परिवर्तित कर दिया गया, जिससे मित्र राष्ट्रों को संसाधनों की एक स्थिर स्रोत प्रदान की गई।
  2. लैंड लीज कार्यक्रम: 1941 में अमेरिकी कांग्रेस द्वारा पारित लेंड-लीज़ अधिनियम ने संयुक्त राज्य अमेरिका को मित्र देशों को जहाज, विमान और अन्य उपकरण सहित सैन्य सहायता प्रदान करने में सक्षम बनाया। इस सहायता से ब्रिटेन, सोवियत संघ और चीन जैसे देशों के युद्ध प्रयासों को काफी बल मिला।
  3. प्रशांत महासागर क्षेत्र: 1941 में जापानी द्वारा पर्ल हार्बर पर हमले के बाद, अमेरिका ने पूरी ताकत से युद्ध में शामिल हो गई। जनरल डगलस मैकआर्थर और एडमिरल चेस्टर निमित्ज़ के नेतृत्व में अमेरिकी सेना ने मध्यवर्ती लड़ाइयों, जैसे मिडवे का युद्ध और आईलैंड-हॉपिंग अभियान का आयोजन किया, जो प्रशांत क्षेत्र में जापानी सेना को धीरे-धीरे पीछे धकेल दिया।
  4. यूरोपीय क्षेत्र: संयुक्त राज्य अमेरिका ने, ब्रिटिश और कनाडाई सेनाओं के साथ, 6 जून, 1944 को फ्रांस के नॉर्मंडी समुद्र तटों पर एक विशाल समुद्री हमला किया, जिसे डी-डे ऑपरेशन के नाम से जाना जाता है। इस ऑपरेशन ने, बाद के आक्रमणों, जैसे कि बैटल ऑफ द बल्ज, के साथ मिलकर पश्चिमी यूरोप को नाजी जर्मनी से मुक्ति दिलाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।
  5. मैनहट्टन परियोजना: संयुक्त राज्य अमेरिका ने मैनहट्टन परियोजना को अंजाम दिया, जिसका उदेश्य दुनिया का प्रथम परमाणु बम बनाना था। अगस्त 1945 में हिरोशिमा और नागासाकी पर परमाणु बम के विस्फोट ने जापान को आत्मसमर्पण करने पर मजबूर कर दिया, जिसके बाद प्रशांत क्षेत्र में युद्ध जल्द ही समाप्त हो गया।
  6. कूटनीतिक प्रयास: राष्ट्रपति फ्रैंकलिन डी. रूजवेल्ट सहित अमेरिकी नेताओं ने युद्ध के दौरान राजनयिक वार्ता और सम्मेलनों में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। तेहरान सम्मेलन, याल्टा सम्मेलन और पॉट्सडैम सम्मेलन युद्ध के बाद की विश्व व्यवस्था को आकार देने में महत्वपूर्ण थे।
  7. होम फ्रंट सपोर्ट: अमेरिकी होम फ्रंट ने युद्ध प्रयासों का समर्थन करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। राशनिंग (राशन-व्यवस्था), विजय उद्यान और स्क्रैप मेटल ड्राइव उन कई तरीकों में से एक थे जिनसे अमेरिकी आबादी ने युद्ध में योगदान दिया। इसके अतिरिक्त, महिलाओं ने बड़ी संख्या में कार्यबल में प्रवेश किया और उन आवश्यक भूमिकाओं को निभाया जो पहले युद्ध में गए पुरुषों द्वारा निभाई जाती थी।

BA History Sem 4

अमेरिका का द्वितीय विश्व युद्ध में भाग लेने के कारण और प्रभाव

द्वितीय विश्व युद्ध में अमेरिका की भागीदारी के प्रभाव को कम करके नहीं आंका जा सकता। देश के सैन्य, औद्योगिक और राजनयिक योगदान ने युद्ध का रुख मोड़ने और युद्ध के बाद की दुनिया को आकार देने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।